हिमाचल प्रदेश की चुनावी रण में आम आदमी पार्टी ने 58 चुनावी योद्धा चुनावी रण में उतारे .

हिमाचल प्रदेश में चुनावी रण पर अपने चुनावी योद्धा को हर राजनीतिक दलों ने उधारी अपने-अपने प्रत्याशियों की टीमें । पहाड़ों में भी चुनावी संघर्ष के लिए आम आदमी पार्टी ने भी भाजपा कांग्रेस की तर्ज पर उतारे अपने 54 प्रत्याशी चुनावी मैदान में तो वही आम आदमी पार्टी पहले ही 4 प्रत्याशियों की सूची कर चुकी है जारी जिसके चलते अब तक आम आदमी पार्टी ने हिमाचल प्रदेश में चुनावी रण के लिए 58 प्रत्याशियों की टीम हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए उतारी।

हिमाचल प्रदेश के राजनीतिक इतिहास की यदि बात की जाए तो अब तक दो राजनीतिक दलों में ही होता था चुनावी मुकाबला लेकिन इस बार त्रिकोण मुकाबले में भाजपा कांग्रेस के साथ अब आम आदमी पार्टी भी हिमाचल प्रदेश के विधानसभा 2022 के चुनावों में लड़ने के लिए पूरी तरह से तैयार. जहां अब तक आम आदमी पार्टी को भाजपा और कांग्रेस केवल सैलानियों की तरह लेती थी कि आम आदमी पार्टी हिमाचल प्रदेश में चुनावी मौसम के दौरान हनीमून पैकेज पर आई है और बहुत जल्दी लुप्त होती नजर आएगी। लेकिन वही आम आदमी पार्टी का कहना है कि भाजपा और कांग्रेस एक सिक्के के पहलू हैं कि प्रदेश की जनता के हित के लिए सबसे पहले आम आदमी पार्टी ने हिमाचल की मासूम जनता के लिए 7 गारंटीयां जारी की थी उसी को देखा देखी में भाजपा ने भी 125 मिनट बिजली मुफ्त देने का निर्णय लिया तो कांग्रेस ने जनता को लुभाने के लिए 10 गारंटीया दे डाली। आम आदमी पार्टी का जब तक प्रदेश में मूलभूत सुविधाएं जनता को सही तरीके से उपलब्ध नहीं है तो प्रदेश का विकास कैसे होगा । इसलिए आम आदमी पार्टी चाहती है कि जहां अब तक कांग्रेस और भाजपा पर प्रदेश की जनता ने विश्वास किया केवल एक मौका देकर अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी को भी देख कर देखें। यदि आम आदमी पार्टी जनता की नजरों में खरी नहीं उतरती है तो दोबारा कभी भी आम आदमी पार्टी को अपना मतदान ना करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: