आजीवन सीखने की आवश्यकता पर सत्र आयोजित

आजीवन सीखने की आवश्यकता पर सत्र आयोजित

शूलिनी यूनिवर्सिटी के वी-एम्पॉवर प्रोग्राम द्वारा “लाइफलॉन्ग लर्निंग ऑन ए एक्शन लर्निंग मोड” पर एक कोचिंग लर्निंग सेशन का आयोजन किया गया । सत्र के वक्ता डॉ विंस्टन जैकब, एमबीई, एक आईसीएफ मान्यता प्राप्त सलाहकार कोच थे।
डॉ विंस्टन ने अपने व्याख्यान की शुरुआत शक्तिशाली टाइटैनिक के क्रॉनिकल के साथ की और इसमें क्या गलत हुआ कि इंसानों द्वारा वर्षों की मेहनत से बनाई गई टाइटैनिक डूब गयी ।
सभी वर्षों के दौरान एक्शन लर्निंग को समझना कोच विंस्टन को अनुसंधान में अपनी भूमिका निभाने और अपने सूत्र और थीसिस के साथ आने के लिए प्रेरित करता है। वह कहता है, “लर्निंग एल, पी प्लस क्यू के बराबर होता है, जिसे अनंत कारक तक बढ़ाया जाता है, जैसे कि आप अनंत बार प्रश्न को संबोधित करते और सवाल करते रहते हैं।” यह प्रश्न को आजीवन सीखने का उपकरण बनाता है।”
एक्शन लर्निंग के तीन चरणों के बारे में बात करने के बाद, कोच विंस्टन ने सीखने, साझा करने और सीखने के दौरान देने के महत्व पर जोर देकर सत्र को समापत किया ,और कहा की जैसा कि हमने सीखा है की हमें हमेशा खुद को सुधारना जारी रखना चाहिए ।
प्रोफेसर रेजिनाल्ड विलियम रेवन्स ने स्थिति का विश्लेषण किया और एक्शन लर्निंग के लिए एक फॉर्मूला तैयार किया, यानी एल (लर्निंग) पी (प्रोग्राम नॉलेज) प्लस क्यू (अंतर्ज्ञानी, अभिनव प्रश्न और प्रश्न) के बराबर है। उन्होंने एक्शन लर्निंग के हस्तक्षेप का बीड़ा उठाया और इसे दुनिया भर में फैलाने में मदद की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: