यदि पार्टी का कोई भी दायित्ववान कार्यकर्ता या पदाधिकारी विधान सभा चुनाव में पार्टी द्वारा अधिकृत प्रत्याशी के विरूद्ध निर्दलीय चुनाव लड़ता है या पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त पाया जाता है उसे तुरंत 6 साल के लिए पार्टी से निष्काषित किया जाएगा।

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद सुरेश कश्यप ने कहा कि केन्द्रीय नेतृत्व से बातचीत के उपरांत यह निर्णय लिया गया है कि यदि पार्टी का कोई भी दायित्ववान कार्यकर्ता या पदाधिकारी विधान सभा चुनाव में पार्टी द्वारा अधिकृत प्रत्याशी के विरूद्ध निर्दलीय चुनाव लड़ता है या पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त पाया जाता है तो उसके विरूद्ध सख्त अनुशासनात्मक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

उन्होनें कहा कि पार्टी का किसी भी स्तर का नेता, पदाधिकारी या कार्यकर्ता क्यों न हो यदि चुनावों में अनुशासनहीनता करते हुए पाया जाता है तो 6 वर्ष से पूर्व उसे किसी भी परस्थिति में पार्टी में वापिस नहीं लिया जाएगा और न ही पार्टी द्वारा उसके नाम पर विचार किया जाएगा।

सुरेश कश्यप ने कहा कि भाजपा एक अनुशासित राजनीतिक दल है और ऐसे में किसी भी स्तर पर किसी भी प्रकार की अनुशासनहीनता को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इसलिए सभी कार्यकर्ता पुरी एकजुटता के साथ पार्टी प्रत्याशियों के लिए काम करें और हिमाचल में रिवाज बदलने और भाजपा की सरकार पुनः बनाने में अपना निर्णायक योगदान दें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: