मुख्यमंत्री ने करसोग विधानसभा क्षेत्र में 90 करोड़ रुपये लागत की 33 विकासात्मक परियोजनाओं के लोकार्पण व शिलान्यास किए,वहीं पांगणा में राजकीय महाविद्यालय तथा अशला में उप तहसील खोलने घोषणा की।


मुख्यमंत्री ने करसोग विधानसभा क्षेत्र में 90 करोड़ रुपये लागत की 33 विकासात्मक परियोजनाओं के लोकार्पण व शिलान्यास किए
वहीं पांगणा में राजकीय महाविद्यालय तथा अशला में उप तहसील खोलने घोषणा की।


मुख्यमंत्री ने पांगणा में राजकीय महाविद्यालय तथा अशला में उप तहसील खोलने की घोषणा की
मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज जिला मण्डी की करसोग विधानसभा क्षेत्र के करसोग में क्षेत्र के लिए लागभग 90 करोड़ रुपये की 33 विकास परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास किए।
‘प्रगतिशील हिमाचलः स्थापना के 75 वर्ष’ कार्यक्रम के तहत आज मंडी जिले के करसोग विधानसभा क्षेत्र के करसोग में एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने पंागणा में डिग्री कॉलेज खोलने, डिग्री कॉलेज करसोग में एमए इतिहास और एमएससी की कक्षाएं आरम्भ करने की घोषणा की। उन्होंने धार में आयुर्वेदिक स्वास्थ्य केंद्र खोलने, पशु औषधालय तत्तापानी को पशु चिकित्सा अस्पताल में स्तरोन्नत करने, अशला में उप तहसील खोलने, शंश और पोखी में स्वास्थ्य उप केंद्र खोलने और खान्योल बगड़ा में वन निरीक्षण कुटीर के निर्माण की भी घोषणा की।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस पार्टी एक कठिन दौर से गुजर रही है क्योंकि एक तरफ कांग्रेस ‘भारत जोड़ो यात्रा’ आयोजित कर रही है, वहीं दूसरी ओर गोवा के कांग्रेस विधायक, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद, हिमाचल कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष पवन काजल और मौजूदा विधायक लखविंदर राणा ने ‘कांग्रेस छोड़ो’ अभियान शुरू किया है। उन्होंने कहा कि अब प्रदेश कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता राम लाल ठाकुर ने भी कांग्रेस नेतृत्व पर भाई-भतीजावाद और अपनी-अपनी दावेदारी के आरोप लगाते हुए पार्टी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी गेहूं के आटे को भी लीटर में मापते हैं, जो आम आदमी के मुद्दों के प्रति उनकी अज्ञानता को दर्शाता है।
जय राम ठाकुर ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के गठन के 75 साल के आयोजन कांग्रेस नेताओं को रास नहीं आ रहे हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ये नेता इस ऐतिहासिक आयोजन को भी राजनीतिक चश्मे से देख रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस उत्सव को आयोजित करने का एकमात्र उद्देश्य हिमाचल प्रदेश को विकास के मामले में देश का अग्रणी राज्य बनाने में यहां के लोगों की भूमिका और योगदान के लिए उनका आभार व्यक्त करना है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश के पूर्ण राज्यत्व के 50 वर्ष पूरे होने पर कांग्रेस नेता भी इस तरह के आयोजन कर सकते थे लेकिन उन्होंने इस बारे में सोचा भी नहीं था क्योंकि वे अन्य गतिविधियों में व्यस्त थे।


मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के गठन के समय यहां की जनसंख्या केवल 11 लाख थी, जो आज 70 लाख से अधिक हो गई है। उन्होंने कहा कि उस समय प्रदेश का क्षेत्रफल 25,839 वर्ग किलोमीटर था जबकि आज राज्य का कुल क्षेत्रफल 55,763 वर्ग किलोमीटर है। उन्होंने कहा कि गठन के समय प्रदेश की साक्षरता दर केवल 4.8 प्रतिशत थी, जो आज 83 प्रतिशत से अधिक है। उन्होंने कहा कि राज्य ने स्वास्थ्य, शिक्षा, बागवानी, पर्यटन और संबद्ध क्षेत्रों में निरंतर प्रगति की है। उन्होंने वर्तमान राज्य सरकार को पूरे दिल से समर्थन देने के लिए राज्य के लोगों को धन्यवाद दिया और एक राजमिस्त्री के बेटे पर अपना आशीर्वाद और स्नेह बरसाने के लिए लोगों का आभार भी व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि ‘मिशन रिपीट’ सुनिश्चित करने के लिए वर्तमान राज्य सरकार के स्पष्ट आह्वान को पचा पाना विपक्षी नेताओं को मुश्किल हो रहा है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि प्रदेश में कांग्रेस बेरोजगारी के खिलाफ ‘यात्रा’ का आयोजन कर युवाओं को गुमराह कर रही है, परन्तु युवा इनके बहकावे में नहीं आने वाले हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में राज्य में सरकारी क्षेत्र में हजारों रोजगार उपलब्ध कराए गए हैं। जल शक्ति विभाग में 10,000 से अधिक पद भरे गए हैं और केवल लोक निर्माण विभाग में ही पांच हजार कर्मचारी नियुक्त किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि युवाओं को स्वरोजगार व उद्यम शुरू करने के लिए भी एक करोड़ रुपये की सहायता प्रदान की जा रही है।
जय राम ठाकुर ने कहा कि वर्तमान सरकार ने मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा, सहारा, हिमकेयर, मुख्यमंत्री स्वावलम्बन जैसी विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं की शुरुआत कर यह सुनिश्चित किया है कि इन कल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से आम आदमी के जीवन में सुखद बदलाव लाए जा सकें। उन्होंने कहा कि महिलाओं को एचआरटीसी की बसों में किराए में 50 प्रतिशत की छूट तथा घरेलू बिजली उपभोक्ताओं को 125 यूनिट बिजली मुफ्त दी जा रही है। उन्होंने कांग्रेस नेताओं पर दस गारंटी देकर लोगों को गुमराह करने का भी आरोप लगाया।
उन्होंने करसोग के लोगों से वर्तमान राज्य सरकार को अपना पूरा समर्थन देने का आग्रह किया ताकि अगले कई वर्षों तक विकास की गति निर्बाध रूप से जारी रहे।


इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने तहसील करसोग की ग्राम पंचायत शाहोट और मेहंदी में चेरा खड्ड से धमून तक 3.43 करोड़ रुपये की उठाऊ जलापूर्ति योजना, 1.38 करोड़ रुपये की लागत से ईमला-बिमला खड्ड के तट्टीयकरण, 5.05 करोड़ रुपये की लागत से सरोटा-कलाशन जलापूर्ति योजना के जीर्णोद्धार कार्य, 93 लाख रुपये के व्यय से ग्राम पंचायत सेरी में जुआ-पोगली-सेरी जलापूर्ति योजना के जीर्णोद्धार कार्य, 25 करोड़ रुपये से सरौर खड्ड चुराग और तत्तापानी क्षेत्र के लिए उठाऊ जलापूर्ति योजना, माहुनाग की बस्तियों के लिए 3.14 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित उठाऊ जलापूर्ति योजना, कण्डा-टकरोल में 54 लाख रुपये की जलापूर्ति योजना, बिथारी खड्ड से पांगणा के लिए एक करोड़ रुपये की लागत से निर्मित जलापूर्ति योजना, खील में 24 लाख रुपये से निर्मित आयुर्वेदिक स्वास्थ्य केन्द्र तथा चुराग में 81 लाख रुपये के व्यय से निर्मित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के भवन का उद्घाटन किया। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने करसोग में 3 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित बस अड्डा, बगशाड़ में 78 लाख रुपये से निर्मित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, 2.59 करोड़ रुपये से निर्मित तुमन पुल, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला तत्तापानी में 89 लाख रुपये से निर्मित विज्ञान प्रयोगशााला भवन, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला सेरी बंगलो में 96 लाख रुपये से निर्मित विज्ञान प्रयोगशाला, नागरिक चिकित्सालय करसोग में 82 लाख रुपये के पीएसए प्लांट, विकास खण्ड कार्यालय में ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग का 44 लाख रुपये का समिति हाल तथा 31 लाख रुपये से निर्मित प्लांट हैल्थ क्लीनिक पंागणा के भी उद्घाटन किया। मुख्यमंत्री ने पशु औषधालय आशला को पशु चिकित्सालय में, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र अशला को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तथा स्वास्थ्य केन्द्र खन्योल बगड़ा को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खन्योल बगड़ा में स्तरोन्नत करने के उपरान्त इसका शुभारम्भ भी किया।


जय राम ठाकुर ने केलोधार में 3.93 करोड़ रुपये लागत की विभिन्न जलापूर्ति योजनाओं के माध्यम से नल कनेक्शन प्रदान करने, लोअर करसोग सनाना, मैंढ़ी और भनेड़ा ग्राम पंचायतों में 3.25 करोड़ रुपये से नल कनेक्शन प्रदान करने, 13.40 करोड़ रुपये से करसोग और समीप के क्षेत्रों में जलापूर्ति योजना के सुधारीकरण कार्य, ग्राम पंचायत सनारली और दछैन में सनारली गांव के लिए 2.03 करोड़ रुपये की जलापूर्ति योजना, ग्राम पंचायत शाकरा के शाकरा गांव के लिए सतलुज नदी से 82 लाख रुपये उठाऊ जलापूर्ति योजना, ग्राम पंचायत मैंढी के गरियाला में 1.47 करोड़ रुपये से पपरोल खड्ड के स्रोत सुदृढ़ीकरण कार्य, काओ खड्ड से डबरोट, भनेड़ा के लिए 83 लाख रुपये की उठाऊ जलापूर्ति योजना, 7.34 करोड़ रुपये से निर्मित होने वाले पुलिस थाना करसोग, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला तेबन में 1.38 करोड़ रुपये से निर्मित होने वाली विज्ञान प्रयोगशाला, करसोग में 55 लाख रुपये से निर्मित होने वाले जल शक्ति विभाग के अधिशाषी अभियन्ता के आवास, ग्राम पंचायत सनारली में 88 लाख रुपये की बहाव सिंचाई योजना सनारली तथा करसोग में 20 लाख रुपये से निर्मित होने वाले प्रेस क्लब की आधाशिला रखी।
स्थानीय विधायक हीरा लाल ने अपने गृह विधानसभा क्षेत्र में मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार के कार्यकाल में इस क्षेत्र में अभूतपूर्व विकास हुआ है। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में सड़कों और पुलों के निर्माण कार्य पर लगभग 300 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। उन्होंने कहा कि वर्षों से लम्बित विभिन्न विकासात्मक परियोजनाओं के कार्य वर्तमान सरकार के कार्यकाल के दौरान पूर्ण हुए है। राज्य में समाज के सभी वर्गों के कल्याण और सामाजिक-आर्थिक उत्थान के लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं शुरू की गई। उन्होंने क्षेत्र की विभिन्न विकासात्मक मांगों का ब्यौरा भी दिया।
पूर्व विधायक जोगिन्द्र पाल, भाजपा मण्डलाध्यक्ष कुन्दन सिंह ठाकुर, पंचायत समिति अध्यक्ष भास्करानंद, करसोग भाजपा के प्रभारी गुलाब सिंह राठौर, सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के निदेशक हरबंस सिंह ब्रसकोन भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: