भारतीय युवा कांग्रेस द्वारा राजीव गाँधी- २१वीं सदी की कल्पना चित्र प्रदर्शनी समारोह का आयोजन- नेगी निगम भंडारी

भारतीय युवा कांग्रेस द्वारा राजीव गाँधी- २१वीं सदी की कल्पना चित्र प्रदर्शनी समारोह का आयोजन- नेगी निगम भंडारी


हिमाचल प्रदेश युवा कांग्रेस अध्यक्ष नेगी निगम भंडारी ने कहा कि एक सच्चे राजनेता जिन्होंने राजनीति से ज़्यादा जनसेवा को महत्त्व दिया। उन्होंने रूढ़िवाद-धर्मान्धता से ज़्यादा विज्ञान को महत्त्व दिया। राजीव जी ने विकसित और विकासशील देशों के बीच के फासले को न सिर्फ काम किया किन्तु उस फासले को मिटाने के लिए एक पुल के समान सोच भी विकसित की। उन्होंने परिणाम से ज़्यादा भारत में होने वाले वैज्ञानिक प्रयासों को तवज्जो दी। उन्होंने भारत को न सिर्फ तकनीकी रूप से सशक्त बनाने की सोच रखी किन्तु उन्होंने भारत एवं भारतीयों को विश्व में विज्ञान के स्तर पर केंद्रीय बिंदु बनाने की भी कई कोशिशें की। आप अगर चाहें तो इसे राजनीतिक इंकलाब का नाम भी दे सकते हैं, ऐसे सदी दूरदर्शी , “भारत रत्न” भूतपूर्व प्रधानमंत्री स्व.श्री राजीव गांधी जी की पुण्यतिथि पर भारतीय युवा कांग्रेस हिमाचल प्रदेश शिमला मे कल 14 मई से 21 मई तक चित्र प्रदर्शनी का आयोजन गेयटी थियेटर मे करने जा रही हैं। राजीव गांधी चित्र प्रदर्शनी समारोह का उद्धघाटन कल 14 मई,2022 शाम पांच बजे गेयटी थियेटर मे होगा। भारतीय युवा कांग्रेस सभी प्रदेश वासियों को आमंत्रित करती हैं कि
राजीव जी ने ना सिर्फ देश के उन्नतियों के लिए विज्ञान का सहारा लिया बल्कि उन्होंने देश में अमन व भाईचारा बनाये रखने लिए भी तकनीक का प्रयोग किया। उन्हें बाखूबी ज्ञात था कि उन्हें उन भारतीयों तक भी विज्ञान व तकनीकी रूप से ख्याति पहुंचानी है जिन्हें इसकी सबसे ज़्यादा ज़रूरत है। नेगी ने कहा कि उन्हें बाखूबी ज्ञात था कि ये बदलाव भारत कि राजधानी से लेकर गाँव की गलियों तक कितनी उन्नतियां ला सकता है..

राजीव जी का लक्ष्य देशवासियों तक सस्ता इंटरनेट पहुँचाने से कई ज़्यादा था। उन्हें अपने परिश्रम व अथक प्रयास से भारत को न सिर्फ आंतरिक किन्तु अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी सामाजिक व आर्थिक रूप से सक्षम बनाना था। उन्होंने भारतीय वैज्ञानिकों व नीति निर्माताओं को आईटी नामक क्रांति की भारत में नींव रखने हेतु बहुत प्रोत्साहित किया व कदम से कदम मिला कर हर ज़रूरत के समय उनका साथ दिया। कई इंकलाबी व जीवन बदलने वाले प्रयासों में से एक है देश का कंप्यूटर से परिचय वो फिर चाहे विद्यालयों में दी जाने वाली कंप्यूटर शिक्षा हो या C-DOT, C-DAC की स्थापना,आमतौर पर ये सब कुछ PCOs (पब्लिक कॉल ऑफिसेस) के नाम से प्रख्यात हुआ, वो फिर देश के पहले सुपर कंप्यूटर PARAM – 800 की बात की जाए या भारत के किसी भी नए दूरसंचार को आसान बनाने वाले सॉफ्टवेयर की तो इसका श्रेय सिर्फ c -dac को जाता है। सुगम दूरसंचार से लेकर कृषि समस्याओं के समाधान तक राजीव जी ने साइंस व टेक्नोलॉजी को काफी बढ़ावा दिया। नेगी ने कहा कि एक ऐसा नेता जिसने अपना पूरा जीवन समाज के हर तबके के उद्धार के लिए न्योछावर कर दिया हो और हर संभव बदलाव के ज़रिये लोकतंत्र को और अधिक सशक्त बनाने हेतु सदन से लेकर पंचायत स्तर तक प्रयास किया हो जिन्होंने विकेंद्रीकरण कर गाँवों व जिलों को स्थानीय मुद्दों व समस्याओं के समाधान हेतु विशेष रूप से अधिकार दिया हो, समाज व परिवारों के लिए महिलाओं के महत्त्व को समझ कर महिलाओं की पंचायती राज व्यवस्था में होने वाली भूमिका सुनिश्चित किया व महिलाओं के हित पंचायती राज व्यवस्था में एक तिहाई महिलाओं को आरक्षण भी दिलवाया।
नेगी निगम भंडारी ने कहा कि राजीव जी ने युवाओं पर विश्वास जताते हुए देश के विकास व उन्नति हेतु मतदान की आयु सीमा 21 वर्ष से घटाकर 18 वर्ष की। उन्होंने आने वाली पीढ़ी का ध्यान रखते हुए नई शिक्षा नीति १९८६ प्रस्तावित की जो कि संस्कृति के प्रति गौरान्वित रहते हुए आधुनिक, धर्मनिरपेक्ष, प्रगतिशील व विज्ञान के महत्त्व को ध्यान में रख शिक्षा हेतु उपदेश देती है। नेगी ने कहा कि राजीव जी ने छात्रों के उज्जवल भविष्य हेतु नवोदय विद्यालयों की श्रंखला शुरू की जो कि आज भी हम एक सफल पहल की तरह देख सकते हैं। ऐसे राज नेता के बारे में जाना हर भारतीय का कर्तव्य है!
बढे दुःख की बात है कि आज राजीव जी हमारे बीच नहीं हैं भारत के उज्जवल भविष्य हेतु उनके द्वारा किये गए प्रयासों को पूरा होता देख सुखानुभव करने हेतु, समय ने उन्हें हमसे काफी जल्दी छीन लिया वरना हमे २१वीं सदी में उनसे काफी कुछ सीखने को मिलता लेकिन फिर भी उनका वैज्ञानिक व तकनिकी रूप से मिला हुआ योगदान न केवल देश बल्कि विश्व भी हमेशा याद रखा। उन्होंने भारतीय राजनीति को न सिर्फ नई राह दिखाई किन्तु भारत को सामाजिक व आर्थिक रूप से आत्म निर्भर बनाने हेतु कई सफल प्रयास किये और इन्ही सब प्रयासों व मूल्यों को हम हमारी मानव पूँजी के रूप में जानते हैं। राजीव जी भले ही इस दुनिया को अलविदा कह गए लेकिन राजीव जी द्वारा किये गए लोकहित के कार्य हमेशा हमारे बीच उनकी उपस्थिति का अहसास करवाते रहेंगे।
नेगी निगम भंडारी ने कहा कि यह चित्र प्रदर्शनी उनके जीवन की एक छोटी सी झांकी है। ऐसे राज नेता के जीवन को जानना हम सभी देशवासियों का सौभाग्य है। चित्र प्रदर्शनी के आखरी दिन यानि कि 21 मई 2022 को स्वर्गीय राजीव गांधी जी को गेयटी थियेटर शिमला मे श्रद्धांजलि अर्पित की जाएगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: