कौल सिंह का आरोप, फिजूलखर्ची के कारण  कंगाली की राह पर खड़ा है हिमाचल, जयराम ठाकुर को बताया बिना अनुभव वाला मुख्यमंत्री, जल शक्ति विभाग में लगाए घोटाले के आरोप



कौल सिंह का आरोप, फिजूलखर्ची के कारण  कंगाली की राह पर खड़ा है हिमाचल, जयराम ठाकुर को बताया बिना अनुभव वाला मुख्यमंत्री, जल शक्ति विभाग में लगाए घोटाले के आरोप



शिमला: चुनावी साल में हिमाचल प्रदेश में नेताओं के बीच वार-पलटवार का दौर जारी है. हिमाचल प्रदेश के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कौल सिंह ठाकुर ने हिमाचल प्रदेश सरकार जयराम ठाकुर पर जयराम सरकार पर जमकर निशाना साधा है.

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर ने कहा कि जयराम सरकार ने फिजूलखर्ची के चलते आज प्रदेश को कंगाली की राह पर लाकर खड़ा कर दिया है. उन्होंने कहा कि बीते साढ़े 4 सालों में 13 हजार करोड़ से ज्यादा का कर्ज लिया गया है. भारतीय जनता पार्टी सत्ता से जाते हुए प्रदेश पर 80 हजार करोड़ रुपए का कर्ज छोड़ जाएगी. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर प्रचार के लिए बेतहाशा फिजूलखर्ची कर रहे हैं. कौल सिंह ठाकुर ने सरकार पर आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अफसरों पर पकड़ नहीं है. उन्होंने कहा कि यह हिमाचल प्रदेश के इतिहास में पहले ऐसे मुख्यमंत्री हैं, जिनके कार्यकाल में 7 मुख्य सचिव और 5 प्रिंसिपल सेक्रेट्री बदले गए हैं.



 कौल सिंह ठाकुर ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की सरकार को बागवानी विरोधी करार दिया. उन्होंने कहा कि सीएम जयराम ठाकुर बागवानों की समस्याओं के प्रति बिलकुल गंभीर नहीं हैं. साथ ही उन्होंने प्रदेश सरकार में बागवानी मंत्री को भी आड़े हाथों लिया. उन्होंने कहा कि बागवानी मंत्री अपने विधानसभा क्षेत्र ओर बगीचे  से बाहर नहीं निकलते और सिर्फ बड़े-बड़े दावे ही करते हैं. उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार ने 5 हजार करोड़ की अर्थव्यवस्था वाले बागवानों को बर्बादी की राह पर लाकर खड़ा कर दिया है. पूर्व स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर ने कैबिनेट मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर पर बागवानी विभाग और जल शक्ति विभाग में घोटाले के भी आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि महेंद्र ठाकुर के  जल शक्ति विभाग में बहुत बड़ा घोटाला हुआ है मुख्यमंत्री जल शक्ति विभाग में पाइपों में हुई खरीद की सीबीआई की जांच करवाएं तब इसका पता लगेगा कि प्रदेश में कितना बड़ा घोटाला हुआ है।

कांग्रेस नेता कौल सिंह ठाकुर ने पुलिस भर्ती पेपर लीक मामले पर भी सवाल खड़े किए. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बड़े-बड़े दावे कर कर मामले की जांच सीबीआई को सौंपने की बात कही थी, लेकिन अब तक मामले की जांच एसआईटी ही कर रही है. कौल सिंह ठाकुर ने आरोप लगाया कि राज्य लोक सेवा आयोग और स्टाफ सिलेक्शन कमीशन में भी कई पेपर लीक हुए हैं. इन सभी की भी सीबीआई से जांच कराई जानी चाहिए. कौल सिंह ठाकुर ने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में हो रही भर्तियों पर भी सवाल खड़े किए. उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो. सिकंदर कुमार के पद से हटकर राज्यसभा सांसद बनने के बाद भी उनके कहने पर विचारधारा विशेष के लोगों को भर्ती कराया जा रहा है. कौल सिंह ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस सत्ता में आते ही सभी भर्तियों और पेपर लीक मामले की गहनता से जांच करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: