मिल रहे भारी जनसमर्थन के माध्यम से ,रिकॉर्ड मतों से बड़सर में जीतेगी कांग्रेस : इंद्रदत्त लखनपाल।

मिल रहे भारी जनसमर्थन के माध्यम से ,रिकॉर्ड मतों से बड़सर में जीतेगी कांग्रेस : इंद्रदत्त लखनपाल।
बड़सर के ढटवाल की जनता व कार्यकर्ता कांग्रेस के साथ चट्टान की तरह खड़े हैं। ढटवाल की जनता का सहयोग, समर्थन व सम्मान मुझे हर चुनाव के बीच व चुनाव के बाद निरंतर मिल रहा है जो कि मेरी सेवा साधना की सियासत का सबूत बना है। यह बात बड़सर की सियासत में शराफत का चेहरा साबित हो चुके विधायक इंद्रदत्त लखनपाल ने कही है।

इंद्रदत्त लखनपाल मध्य ढटवाल के क्षेत्रों सठवीं, बल्ह बिहाल, दख्योड़ा, धंगोटा, भैल आदि क्षेत्रों की चुनावी सभाओं में बोल रहे थे। बड़सर सियासत का बड़ा चेहरा पूर्व विधायक मंजीत सिंह डोगरा इंद्रदत्त लखनपाल के चुनावी काफिले का सारथी बन कर कांग्रेस के चुनाव प्रचार को नित नई धार दे रहे हैं। लम्बे अरसे बाद बड़सर कांग्रेस का हर नेता चुनाव प्रचार में साथ-साथ डटा व जुटा है। इसी कड़ी में प्रदेश कांग्रेस के सचिव किश्न कुमार भी चुनाव प्रचार में इंद्रदत्त लखनपाल की चुनाव प्रचार मुहिम में अंग-संग रहते हुए करो या मरो की भूमिका में बेहद सक्रिय हैं। कहना न होगा कि चुनावी राजनीति में लम्बा अनुभव व गहरी पैठ रखने वाले किश्न कुमार चुनाव प्रचार को अग्रणी रखे हुए हैं।

विधायक इंद्रदत्त लखनपाल ने कहा कि वह विकास के साथ-साथ शराफत की सियासत के पक्षधर रहे हैं। शराफत के मानकों पर पिछले 10 सालों से बड़सर की जनता के टेस्टड व ट्रस्टड साबित हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि जहां तक संभव हुआ वह बड़सर की जनता के हर सुख-दुख में शरीक रहे। दलगत राजनीति से ऊपर उठकर पार्टीबाजी को दरकिनार करते हुए उन्होंने हर जरूरतमंद की यथासंभव मदद की है। हर जरुरतमंद इलाके की जरुरत के मुताबिक विकास का प्रयास किया है। सड़क से लेकर विधानसभा तक आम आदमी की समस्या व शिकायतों को विधानसभा पटल पर रखा व उठाया है। भेदभाव की राजनीति से ऊपर उठकर हर आदमी को अपना माना है। शायद यह उसी का परिणाम व प्रमाण है कि चुनाव के इस अवसर पर हर बड़सरवासी उनके साथ चुनाव प्रचार में खुले दिल से सहयोग व समर्थन कर रहा है। इंद्रदत्त लखनपाल ने कहा कि जनता का उत्साह व समर्थन बता रहा है कि बड़सर में इस बार कांग्रेस रिकॉर्ड बहुमत से जीतेगी।
बॉक्स
इस अवसर पर सठवीं ग्राम पंचायत के करीब 10 परिवारों ने इंद्रदत्त लखनपाल को खुला समर्थन करते हुए बीजेपी का दामन छोड़कर कांग्रेस का हाथ थामा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: