आम आदमी पार्टी का जयराम सरकार पर कड़ा आरोप कहा प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था पूरी तरह से हुई फेल एक ही कमरे में चल रही पांचवीं तक कि कक्षाएं।

आप पदाधिकारियों ने हिमाचल के सरकारी स्कूलों का किया दौरा, जर्जर हालत वाले स्कूलों ने खोली जयराम सरकार की पोल।


आप नेता अनिंदर सिंह नौटी ने राजकीय प्राथमिक पाठशाला पौटा, भुंगरनी के हालातों को “एक फोटो स्कूल के साथ ” अभियान के जरिए दिखाया, हिमाचल में स्कूलों कि जर जर हालत ।
मात्र एक कमरे के सहारे पहली से 5वीं कक्षा के, 22 बच्चों को दी जा रही शिक्षा।


ऊना में पार्टी के यूथ विंग के प्रदेश उपाध्यक्ष व आप महिला कार्यकर्ता मीनाक्षी ने सरकारी स्कूल का औचक निरीक्षण कर लमलेहड़ा स्कूल की खोली पोल। जर्जर भवन में चल रहा सरकारी स्कूल न ग्राउंड न पीने का पानी और न शौचालय कैसे बनेगा बच्चे का भविषय के साथ खिलवाड़।




आम आदमी पार्टी के सेल्फी विद स्कूल अभियान के तहत आप नेताओं ने प्रदेश सरकार के स्कूलों की व्यवस्था को लेकर पोल खोलकर रख दी है। बुधवार को आप नेताओं ने प्रदेशभर में विभिन्न जगहों पर सरकारी स्कूलों का औचक दौरा कर सरकार के दावों की पोल खोल कर रख दी है। आम आदमी पार्टी के नेता अनिंदर सिंह नौटी ने पांवटा विधानसभा क्षेत्र के राजकीय प्राथमिक पाठशाला भुंगरनी का दौरा किया जहां शिक्षा के नाम पर बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। वहीं ऊना में पार्टी के यूथ विंग के प्रदेश उपाध्यक्ष ईशान ओहरी और पार्टी की महिला कार्यकर्ता मीनाक्षी शर्मा ने ऊना विधान सभा क्षेत्र के लमलेहड़ा सरकारी स्कूल का औचक दौरा किया जहां एक जर्जर हो चुके भवन में बच्चों के भविष्य को बर्बाद किया जा रहा है। सरकारी स्कूल के भीतर न तो पीने के पानी की व्यवस्था है और न ही खेलने के लिए प्ले ग्राउंड की व्यवस्था है। ऐसे में स्कूल में पढ़ रहे बच्चों को किस तरह की शिक्षा और सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं आप खुद इसे देख सकते हैं।



अनिंदर सिंह नौटी ने कहा कि 2012 से लेकर 2022 तक एक मंजिला स्कूल में न जाने कितने बच्चों को इस स्कूल के शिक्षा दी गई है लेकिन सरकार की अनदेखी के चलते इस स्कूल में आजतक मूलभूत सुविधाएं नहीं मिल पाई हैं जिससे पांवटा साहिब के बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। प्राथमिक स्कूल में पहली से लेकर 5 वीं कक्षा तक के 22 बच्चों को शिक्षा दी जा रही है लेकिन स्कूल में न तो पर्याप्त कमरों की व्यव्स्था है और न ही शौचालय और पीने के पानी की।उन्होंने कहा कि एक ओर प्रदेश सरकार के मुखिया जयराम ठाकुर और शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर अपना गुणगान करते हुए नहीं थकते कि हिमाचल प्रदेश शिक्षा क्षेत्र में देशभर में दूसरे स्थान पर हैं लेकिन दूसरी ओर भाजपा सरकार के शासन काल में प्रदेश के सरकारी स्कूलों की हालत बद से बदतर है जहां एक ही कमरे के भीतर पहली से 5 वीं कक्षा के 22 बच्चों को शिक्षा दी जा रही है। स्कूल की अनदेखी के लिए भाजपा और कांग्रेस दोनों सरकारें जिम्मेदार हैं जो अपनी वोट बैंक की राजनीति के लिए प्रदेश के नौनिहालों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।



वहीं ईशान ओहरी और मीनाक्षी शर्मा ने कहा कि भाजपा सरकार के सीएम जयराम ठाकुर और शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर भले ही शिक्षा व्यवस्था को लेकर बड़े- बड़े दावे कर लें लेकिन मीडिया में बयान देने से जमीनी हकीकत छुपा नहीं सकते हैं वह किसी न किसी तरह से सामने आ जाती है। ऊना विधानसभा के तहत आने वाले इस सरकारी स्कूल की हालत बहुत ही दयनीय है जहां एक जर्जर हो चुके भवन में कक्षाएं चल रही हैं और इस भवन की छत कभी भी किसी अप्रिय घटना को अंजाम दे सकती है। उन्होंने कहा की स्कूल की दयनीय हालात को लेकर सरकार का कोई ध्यान नहीं है सरकार तो बस आम आदमी पार्टी की दस्तक से बौखलाकर अपने आपको बचाने का काम कर रही है। क्योंकि हिमाचल में आम आदमी पार्टी प्रदेश के सरकारी स्कूलों में सरकार के अव्वल शिक्षा के हवाई दावों की सच्चाई जनता के सामने ला रही है अपने झूठे दावों की पोल खुलने के बावजूद भाजपा सरकार देशभर में शिक्षा क्षेत्र में हिमाचल को केरल के बाद दूसरे नंबर पर होने का दम भर रही है जबकि जमीनी हकीकत यह है कि सरकारी स्कूलो में बच्चों के लिए न तो पीने के पानी की सुविधा है ना शोचालय हैं और ना ही बैठने की पर्याप्त व्यवस्था ऐसे में कैसे प्रदेश के बच्चों के भविष्य को बेहतर बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि इन दोनों दलों भाजपा और कांग्रेस का यह एजेंडा रहा है कि यदि प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था को मजबूत किया जाएगा तो प्रदेश की जनता उनसे सवाल ज़बाब करेगी लेकिन यह दोनों दल नहीं चाहते कि शिक्षा व्यवस्था का सुधार किया जाए नहीं तो इनके हाथों से सता निकल जाएगी।इसलिए आम आदमी पार्टी प्रदेश की राजनीति को बदलने के लिए शिक्षा, स्वास्थ्य और बेरोजगारी के मुद्दे पर जनता के साथ विचार विमर्श कर रही है ताकि प्रदेश में मूलभूत सुविधाओं को बेहतर कर प्रदेश का एक समान विकास किया जा सके जिसके तहत आम आदमी पार्टी ने सेल्फी विद स्कूल अभियान चलाया है जहां प्रदेश वासी अपने अपने घर गांव कस्बों में जाकर सरकारी स्कूलों की हालत और शिक्षा व्यव्स्था पर वीडियो बनाकर हैशटैग के साथ पोस्ट कर सकते हैं।जिसमें आम आदमी इस अभियान से जुड़कर सरकारी व्यस्वथा की पोल खोल अभियान में भागीदार बन सकते हैं ताकि शिक्षा को लेकर सरकार द्वारा दावों की सच्चाई को जनता के सामने लाया जा सके।

वहीं पौटा में आप नेता,अनिंदर सिंह नौटी ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह उस कहावत की तरह है जहां कोयल अपने अंडे कमरे के भीतर नहीं देती बल्कि बाहर देती है ताकि कौवा अपने बच्चे समझकर उनके अंडों की देखरेख करें। उसी तर्ज पर प्रदेश सरकार एक ही भवन में कई कार्यालयों को चला रही है ताकि कोई विभाग इस सरकारी स्कूल की देखरेख भी कोई और विभाग करे। उन्होंने कहा कि 2012 से इस स्कूल भवन में एक तरफ सिंचाई विभाग का नलकूप,महिला मंडल भवन,खाद का डिपो और पंचायत घर चल रहा है लेकिन 10 साल से भाजपा और कांग्रेस की सरकारों ने बारी बारी से प्रदेश में राज किया लेकिन किसी भी सरकार का यहां के बच्चों पर ध्यान नहीं गया और न ही किसी भी सरकार ने इस स्कूल की स्थिति पर ध्यान दिया। आज आम आदमी पार्टी ने इस स्कूल की दयनीय स्थिति को लेकर सरकार की पोल खोलकर रख दी है।और आम आदमी पार्टी सरकार को बताना चाहती है कि सिर्फ दावे करने से कुछ नहीं होता बल्कि जमीनी हकीकत में सरकारी स्कूलों की हालत तो देखिए जहां मूलभूत सुविधाएं भी नहीं मिल रही हैं। इसलिए सरकार अपना गुणगान न गाए बल्कि जमीनी पर आकर सरकारी स्कूलों में सुविधाएं प्रदान करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: